नारी देवी है, मां है,बहन है, प्रेमिका है, पत्नी है, बेटी है।आप की नहीं तो किसी और की है। उनकी आदर करना सीखे चाहे वह कोई भी हो। नवरात्रि आज से प्रारंभ हो गया है और आज से स्त्री रुपी देवी दुर्गा की पूजा की जाती है ।दुर्गा सिर्फ देवी ही नहीं ,बल्कि मां भी है और समस्त नारी जाति का प्रतीक भी । कई बार हम भूल जाते हैं की शक्ति की स्वरुप देवी शक्ति स्वरूप नारी का ही एक रूप है।वह सक्षम है झांसी की रानी की तरह दुष्टों का संहार करने में, हाडी रानी और पन्ना धा की तरह त्याग करने मे, सीता मां की तरह चरित्र रखने में, और दुनिया के समस्त क्षेत्रों में अपना परचम लहराने में।
आइए नारी शक्ति पूजन का पर्व नवरात्रि में हम संकल्प लें और उनकी वीरता को प्रणाम करें
मुरारी

Advertisements